26.2 C
Chhattisgarh
Wednesday, December 8, 2021

पेट्रोल व डीजल पर वैट कम ना करने के पीछे जनता का शोषण और केन्द्र को बदनाम करना ही ऐजेंडा है – डॉ मनीष रॉय

०० छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पेट्रोल व डीजल पर वैट कम ना करने के पीछे जनता का शोषण करना और केन्द्र को बदनाम करना ही ऐजेंडा है..

 

बिलासपुर – जैसा कि ज्ञात है , केंद्र सरकार ने पेट्रोल एवं डीजल पर अपना टैक्स कम करते हुए पेट्रोल में ₹10 और डीजल में ₹5 की कमी कर डाली है | उसके बाद 18 राज्यों की सरकारों ने भी अपने राज्य करो में कटौती करते हुए पेट्रोल एवं डीजल के मूल्य में लगभग ₹12 तक दरें घटा दी है |गुजरात में डीजल 89 रू, कर्नाटक में 84.60 रुपए, उत्तरप्रदेश में 86.76 रुपए और हरियाणा में 87.27 रुपए वर्तमान मूल्य है | मगर छत्तीसगढ़ की बेशर्म कांग्रेस सरकार जिसने कसम खा रखी है जनता का खून पीकर रहेंगे और जब तक है दम ,प्रदेश को लूटते रहेंगे | इसलिए छत्तीसगढ़ में डीजल का मूल्य 93.88 रुपए है| इस प्रकार छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार जो पहले ही अपने सारे वादों को भूल चुकी है और सिर्फ भ्रष्टाचार और गरीबों को लूट कर अपनी जेब भरने वाली सरकार बन चुकी है |जैसे इनके दिखावे वाली योजनाएं किसान न्याय योजना ,गौठान योजना ,गौठान योजना ,यह सभी धरातल पर शून्य है | एक तरफ धान की खरीदी नहीं हो पा रही है और बारदोनों की कमी शुरू से ही बनी हुई है | क्योंकि बारदानों के पीछे में भी बड़ा भ्रष्टाचार छुपा हुआ है | इनको तो अब गोबर खाने में भी शर्म नहीं आती है |क्योंकि बैठे-बिठाए गोबर बेचने में भी भ्रष्टाचार का एक नया रास्ता इन्होंने ईजाद कर लिया है| केंद्र सरकार ने महंगाई को देखते हुए ही पेट्रोल एवं डीजल की दरों को कम किया है जबकि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा में कच्चे तेल का भाव आसमान छू रहा है और कुछ ऐसे देश जहां तेल का उत्पादन होता है वहां भी डीजल और पेट्रोल 80 से 90 रुपए तक बिक रहा है | लेकिन विपक्ष में बैठी पार्टियां बिना ज्ञान और आंकड़ों के सिर्फ सरकार पर आरोप लगाने का धंधा कर रही है और जब बात उन्हीं की पार्टियों की आती है जैसे छत्तीसगढ़ ,राजस्थान और महाराष्ट्र जहां पर कांग्रेस पार्टी मुख्य रूप से सत्ता में है वहां पर भ्रष्टाचार और लूट का पैमाना भी अपने हर स्तर को पार कर चुका है लेकिन फिर भी इनके राष्ट्रीय नेता अपने गिरेबान में झांककर कभी यह नहीं देखते, कि जहां कांग्रेस पार्टी की सरकारें हैं वह भी हिंदुस्तान में ही आता है | क्योंकि इनको तो सिर्फ देश को लूटना है और खोखला करना है | क्योंकि इनका हमेशा से एक नारा रहा है गरीबी हटाओ | मगर पिछले 60 सालों में इन्होंने गरीबी तो नहीं हटाई ,मगर हां अमीर और मध्यमवर्गीय को गरीब और गरीब को मौत की कगार तक जरूर पहुंचा दिया है।

जब बात आंकड़ों और परीक्षण के आती है| तब यह लोग अपने चेहरे छुपाते हुए नजर आते हैं | आज छत्तीसगढ़ की जनता अपने भूपेश सरकार से ही मांग कर रही है कि क्यों आप भी 18 राज्यों की तरह अपना वैट टैक्स कम नहीं कर रहे हैं | जिससे आम जनता को पेट्रोल और डीजल में राहत मिल सके | लेकिन भूपेश बघेल तो शराब की दुकानों से अंधाधुध कमाई करके इतने अहंकार में डूब चुके हैं कि इनको जनता का दर्द और तकलीफ कहीं भी दिखाई नहीं दे रहा है| तभी बेशर्मी से बयान देते हैं कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार टैक्स में कोई कमी नहीं करेगी ,वरन केंद्र सरकार को ही अपने टैक्स में और कमी करनी चाहिए | जनता को निर्णय करना है कि केंद्र सरकार जो एक तरफ किसानों की कर्ज माफी, फ्री वैक्सीनेशन जो लगभग 114 करोड़ से ऊपर हो चुका है| फसल बीमा योजना, उज्जवला गैस योजना, सुकन्या समृद्धि योजना ,प्रधानमंत्री आवास योजना, किसान सम्मान निधि , आयुष्मान भारत ऐसे सैकड़ों योजनाएं जो जनता को जनता के ही टैक्स से बचाकर जनता को पहुंचाने का प्रयास केन्द्र सरकार कर रही है | उस प्रयास को रोकने का काम कांग्रेस पार्टी बखूबी बेशर्मी से करती आ रही है | इससे यह साफ हो जाता है कि कांग्रेस पार्टी और उनके साथ समर्थित विपक्षी पार्टियां सिर्फ और सिर्फ देश को लूट कर गर्त में ले जाने के लिए फिर से तैयार बैठी है | मगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जनता के प्रति प्रतिबद्ध है | कि जनता को हर हाल में महंगाई और किसी भी प्रकार की परेशानियों से निकाल कर एक मजबूत राष्ट्र का निर्माण करेगी | इसी दिशा में प्रधानमंत्री मोदी जी ने किसान कानून को रद्द करने का फैसला गुरु प्रकाश पर्व के दिन कर दिया है | जिससे पिछले कई महीनों से जनता को होने वाली परेशानियों से निजात दिलाया जा सके और देश में अराजकता फैलाने वाली कुछ किसान संगठन जो कांग्रेस पार्टी के समर्थन से देश विरोधी एजेंडा चला रही थी , उनकी ताकत को तोड़ा जा सके | देश को सुरक्षित रखा जा सके |इसलिए किसानों के हित वाला कानून भी मोदी जी ने क्षमा मांगते हुए रद्द कर दिया | अब छत्तीसगढ़ की जनता कांग्रेस पार्टी और भूपेश सरकार से मांग भी कर रही है और देख रही है कि कितनी जल्दी छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार अपने वेट टैक्स को कम करके पेट्रोल एवं डीजल के दरों में कमी करेगी | जिससे जनता, केंद्र और राज्य सरकार दोनों के प्रति अपना आभार व्यक्त कर सकेगी।

यहां पर आपको बताते चलें कि पेट्रोल एवं डीजल का टैक्स प्रतिशत केंद्र सरकार का 60% और राज्य सरकार का 40% होता है | मगर फिर से केंद्र सरकार अपने 60% में 40% पुनः राज्य सरकार को लौटा देती है |इस प्रकार राज्य सरकार को मिलने वाला टैक्स कुल 64% का होता है, और केंद्र सरकार को सिर्फ 36% मिलता है और यही भ्रम राज्य सरकारें केंद्र सरकार के खिलाफ झूठ जनता के सामने प्रस्तुत करती है और जनता भी जानकारी के अभाव में पेट्रोल एवं डीजल के दरों के बारे में केंद्र सरकार को ही दोषी मानती है, जबकि राज्य सरकार को मिलने वाले 64% में से अगर राज्य सरकारें अपने टैक्स को कम कर दें तो आप खुद निर्णय करें कि पेट्रोल एवं डीजल कितने कम मूल्य में प्राप्त हो सकेगी। पिछले पिछले 60 वर्षों में कांग्रेस की सरकारों ने इसी बात का फायदा हमेशा उठाकर केंद्र हो या राज्य ,हर तरफ से भ्रष्टाचार किया है और देश को लूटा है, आज इनका लूट का झूठ नरेंद्र मोदी की सरकार ने बंद कर दिया है, तो आज कांग्रेस पार्टी को और गांधी परिवार को सबसे ज्यादा दर्द हो रहा है।

अंततः देखना है कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार अपनी बेशर्मी को कायम रखती है या बाकी 18 राज्यों की तरह अपने वैट टैक्स को कम करके जनता को राहत देती है? यह सभी बातें डॉ मनीष राय, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री ,दुर्घटनामुक्त भारत ,माधव नेत्रालय नागपुर ,समाजसेवी ने मीडिया से बात करते हुए लखनऊ ,उत्तर प्रदेश में कही और बताया कि अगर छत्तीसगढ़ की सरकार, वैट के टैक्स में कमी नहीं करती है तो संगठन और जनता के साथ मिलकर राज्य सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन चलाया जाएगा, पहले ही भूपेश ने शराबबंदी ना करके और अपने वादो को ना निभाकर छत्तीसगढ़ की जनता को धोखा दे दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2,466FansLike
5,083FollowersFollow
2,492FollowersFollow
1,890SubscribersSubscribe

Latest Articles

०० छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार पेट्रोल व डीजल पर वैट कम ना करने के पीछे जनता का शोषण करना और केन्द्र को बदनाम करना ही ऐजेंडा है..

 

बिलासपुर – जैसा कि ज्ञात है , केंद्र सरकार ने पेट्रोल एवं डीजल पर अपना टैक्स कम करते हुए पेट्रोल में ₹10 और डीजल में ₹5 की कमी कर डाली है | उसके बाद 18 राज्यों की सरकारों ने भी अपने राज्य करो में कटौती करते हुए पेट्रोल एवं डीजल के मूल्य में लगभग ₹12 तक दरें घटा दी है |गुजरात में डीजल 89 रू, कर्नाटक में 84.60 रुपए, उत्तरप्रदेश में 86.76 रुपए और हरियाणा में 87.27 रुपए वर्तमान मूल्य है | मगर छत्तीसगढ़ की बेशर्म कांग्रेस सरकार जिसने कसम खा रखी है जनता का खून पीकर रहेंगे और जब तक है दम ,प्रदेश को लूटते रहेंगे | इसलिए छत्तीसगढ़ में डीजल का मूल्य 93.88 रुपए है| इस प्रकार छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार जो पहले ही अपने सारे वादों को भूल चुकी है और सिर्फ भ्रष्टाचार और गरीबों को लूट कर अपनी जेब भरने वाली सरकार बन चुकी है |जैसे इनके दिखावे वाली योजनाएं किसान न्याय योजना ,गौठान योजना ,गौठान योजना ,यह सभी धरातल पर शून्य है | एक तरफ धान की खरीदी नहीं हो पा रही है और बारदोनों की कमी शुरू से ही बनी हुई है | क्योंकि बारदानों के पीछे में भी बड़ा भ्रष्टाचार छुपा हुआ है | इनको तो अब गोबर खाने में भी शर्म नहीं आती है |क्योंकि बैठे-बिठाए गोबर बेचने में भी भ्रष्टाचार का एक नया रास्ता इन्होंने ईजाद कर लिया है| केंद्र सरकार ने महंगाई को देखते हुए ही पेट्रोल एवं डीजल की दरों को कम किया है जबकि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा में कच्चे तेल का भाव आसमान छू रहा है और कुछ ऐसे देश जहां तेल का उत्पादन होता है वहां भी डीजल और पेट्रोल 80 से 90 रुपए तक बिक रहा है | लेकिन विपक्ष में बैठी पार्टियां बिना ज्ञान और आंकड़ों के सिर्फ सरकार पर आरोप लगाने का धंधा कर रही है और जब बात उन्हीं की पार्टियों की आती है जैसे छत्तीसगढ़ ,राजस्थान और महाराष्ट्र जहां पर कांग्रेस पार्टी मुख्य रूप से सत्ता में है वहां पर भ्रष्टाचार और लूट का पैमाना भी अपने हर स्तर को पार कर चुका है लेकिन फिर भी इनके राष्ट्रीय नेता अपने गिरेबान में झांककर कभी यह नहीं देखते, कि जहां कांग्रेस पार्टी की सरकारें हैं वह भी हिंदुस्तान में ही आता है | क्योंकि इनको तो सिर्फ देश को लूटना है और खोखला करना है | क्योंकि इनका हमेशा से एक नारा रहा है गरीबी हटाओ | मगर पिछले 60 सालों में इन्होंने गरीबी तो नहीं हटाई ,मगर हां अमीर और मध्यमवर्गीय को गरीब और गरीब को मौत की कगार तक जरूर पहुंचा दिया है।

जब बात आंकड़ों और परीक्षण के आती है| तब यह लोग अपने चेहरे छुपाते हुए नजर आते हैं | आज छत्तीसगढ़ की जनता अपने भूपेश सरकार से ही मांग कर रही है कि क्यों आप भी 18 राज्यों की तरह अपना वैट टैक्स कम नहीं कर रहे हैं | जिससे आम जनता को पेट्रोल और डीजल में राहत मिल सके | लेकिन भूपेश बघेल तो शराब की दुकानों से अंधाधुध कमाई करके इतने अहंकार में डूब चुके हैं कि इनको जनता का दर्द और तकलीफ कहीं भी दिखाई नहीं दे रहा है| तभी बेशर्मी से बयान देते हैं कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार टैक्स में कोई कमी नहीं करेगी ,वरन केंद्र सरकार को ही अपने टैक्स में और कमी करनी चाहिए | जनता को निर्णय करना है कि केंद्र सरकार जो एक तरफ किसानों की कर्ज माफी, फ्री वैक्सीनेशन जो लगभग 114 करोड़ से ऊपर हो चुका है| फसल बीमा योजना, उज्जवला गैस योजना, सुकन्या समृद्धि योजना ,प्रधानमंत्री आवास योजना, किसान सम्मान निधि , आयुष्मान भारत ऐसे सैकड़ों योजनाएं जो जनता को जनता के ही टैक्स से बचाकर जनता को पहुंचाने का प्रयास केन्द्र सरकार कर रही है | उस प्रयास को रोकने का काम कांग्रेस पार्टी बखूबी बेशर्मी से करती आ रही है | इससे यह साफ हो जाता है कि कांग्रेस पार्टी और उनके साथ समर्थित विपक्षी पार्टियां सिर्फ और सिर्फ देश को लूट कर गर्त में ले जाने के लिए फिर से तैयार बैठी है | मगर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जनता के प्रति प्रतिबद्ध है | कि जनता को हर हाल में महंगाई और किसी भी प्रकार की परेशानियों से निकाल कर एक मजबूत राष्ट्र का निर्माण करेगी | इसी दिशा में प्रधानमंत्री मोदी जी ने किसान कानून को रद्द करने का फैसला गुरु प्रकाश पर्व के दिन कर दिया है | जिससे पिछले कई महीनों से जनता को होने वाली परेशानियों से निजात दिलाया जा सके और देश में अराजकता फैलाने वाली कुछ किसान संगठन जो कांग्रेस पार्टी के समर्थन से देश विरोधी एजेंडा चला रही थी , उनकी ताकत को तोड़ा जा सके | देश को सुरक्षित रखा जा सके |इसलिए किसानों के हित वाला कानून भी मोदी जी ने क्षमा मांगते हुए रद्द कर दिया | अब छत्तीसगढ़ की जनता कांग्रेस पार्टी और भूपेश सरकार से मांग भी कर रही है और देख रही है कि कितनी जल्दी छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार अपने वेट टैक्स को कम करके पेट्रोल एवं डीजल के दरों में कमी करेगी | जिससे जनता, केंद्र और राज्य सरकार दोनों के प्रति अपना आभार व्यक्त कर सकेगी।

यहां पर आपको बताते चलें कि पेट्रोल एवं डीजल का टैक्स प्रतिशत केंद्र सरकार का 60% और राज्य सरकार का 40% होता है | मगर फिर से केंद्र सरकार अपने 60% में 40% पुनः राज्य सरकार को लौटा देती है |इस प्रकार राज्य सरकार को मिलने वाला टैक्स कुल 64% का होता है, और केंद्र सरकार को सिर्फ 36% मिलता है और यही भ्रम राज्य सरकारें केंद्र सरकार के खिलाफ झूठ जनता के सामने प्रस्तुत करती है और जनता भी जानकारी के अभाव में पेट्रोल एवं डीजल के दरों के बारे में केंद्र सरकार को ही दोषी मानती है, जबकि राज्य सरकार को मिलने वाले 64% में से अगर राज्य सरकारें अपने टैक्स को कम कर दें तो आप खुद निर्णय करें कि पेट्रोल एवं डीजल कितने कम मूल्य में प्राप्त हो सकेगी। पिछले पिछले 60 वर्षों में कांग्रेस की सरकारों ने इसी बात का फायदा हमेशा उठाकर केंद्र हो या राज्य ,हर तरफ से भ्रष्टाचार किया है और देश को लूटा है, आज इनका लूट का झूठ नरेंद्र मोदी की सरकार ने बंद कर दिया है, तो आज कांग्रेस पार्टी को और गांधी परिवार को सबसे ज्यादा दर्द हो रहा है।

अंततः देखना है कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार अपनी बेशर्मी को कायम रखती है या बाकी 18 राज्यों की तरह अपने वैट टैक्स को कम करके जनता को राहत देती है? यह सभी बातें डॉ मनीष राय, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री ,दुर्घटनामुक्त भारत ,माधव नेत्रालय नागपुर ,समाजसेवी ने मीडिया से बात करते हुए लखनऊ ,उत्तर प्रदेश में कही और बताया कि अगर छत्तीसगढ़ की सरकार, वैट के टैक्स में कमी नहीं करती है तो संगठन और जनता के साथ मिलकर राज्य सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन चलाया जाएगा, पहले ही भूपेश ने शराबबंदी ना करके और अपने वादो को ना निभाकर छत्तीसगढ़ की जनता को धोखा दे दिया है।