26.3 C
Chhattisgarh
Sunday, August 1, 2021

पटवारी की मनमानी के चलते किसान हो रहे हैं परेशान.. छात्रों को जाति, आमदनी, निवास बनवाने भटकना पड़ रहा..

रूपचंद रॉय मस्तूरी

०० पटवारी के मनमानी चलते किसान हो रहे हैं परेशान..

०० छात्रों को जाति, आमदनी, निवास प्रमाण पत्र में हस्ताक्षर के लिए पड़ रहा भटकना..

०० जिम्मेदार प्रतिनिधि व अधिकारियों द्वारा नही दिया जा ध्यान..

मस्तूरी – मस्तूरी क्षेत्र के ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा में पटवारी द्वारा किसानों से अवैध वसूली किया जाने का आरोप लगा रहे हैं।

ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा में पटवारी नहीं आते हैं और पटवारी से पूछा गया कि आप ठाकुरदेवा में क्यों नहीं आते हैं पटवारी कहते हैं कि सभी काम ऑनलाइन हो जाता है मेरे आने का यहां क्या काम है तो वहां के किसान लोग कुटेला जाते हैं, ग्राम पंचायत के किसानों व छात्रों के काम जैसे कि जाति निवास आमदनी प्रमाण पत्र में पटवारी के साइन के बगैर छात्र भटक रहे हैं।

आलम तो यह है कि इतना दिन बीत जाने के बाद भी क्षेत्रीय प्रतिनिधियों द्वारा ध्यान नहीं दिया जाता कि पटवारी ग्राम पंचायत में आते हैं कि नहीं और तो इस ओर जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा भी ध्यान नहीं दिया जाता है।

बात अब यहाँ तक पहुँच गया है कि ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा के किसान और छात्र-छात्राएं परेशान हैं वहां के छात्र-छात्राएं कहते हैं कि हमें जाति निवास एवं मिसल बनवाने के लिए कहां जाएं शासन प्रशासन इसका जवाब दे और हमे रास्ता बताये की हम क्या करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2,466FansLike
5,083FollowersFollow
2,492FollowersFollow
1,890SubscribersSubscribe

Latest Articles

रूपचंद रॉय मस्तूरी

०० पटवारी के मनमानी चलते किसान हो रहे हैं परेशान..

०० छात्रों को जाति, आमदनी, निवास प्रमाण पत्र में हस्ताक्षर के लिए पड़ रहा भटकना..

०० जिम्मेदार प्रतिनिधि व अधिकारियों द्वारा नही दिया जा ध्यान..

मस्तूरी – मस्तूरी क्षेत्र के ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा में पटवारी द्वारा किसानों से अवैध वसूली किया जाने का आरोप लगा रहे हैं।

ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा में पटवारी नहीं आते हैं और पटवारी से पूछा गया कि आप ठाकुरदेवा में क्यों नहीं आते हैं पटवारी कहते हैं कि सभी काम ऑनलाइन हो जाता है मेरे आने का यहां क्या काम है तो वहां के किसान लोग कुटेला जाते हैं, ग्राम पंचायत के किसानों व छात्रों के काम जैसे कि जाति निवास आमदनी प्रमाण पत्र में पटवारी के साइन के बगैर छात्र भटक रहे हैं।

आलम तो यह है कि इतना दिन बीत जाने के बाद भी क्षेत्रीय प्रतिनिधियों द्वारा ध्यान नहीं दिया जाता कि पटवारी ग्राम पंचायत में आते हैं कि नहीं और तो इस ओर जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा भी ध्यान नहीं दिया जाता है।

बात अब यहाँ तक पहुँच गया है कि ग्राम पंचायत ठाकुरदेवा के किसान और छात्र-छात्राएं परेशान हैं वहां के छात्र-छात्राएं कहते हैं कि हमें जाति निवास एवं मिसल बनवाने के लिए कहां जाएं शासन प्रशासन इसका जवाब दे और हमे रास्ता बताये की हम क्या करे।